मंगलवार, 7 जुलाई 2020

Setu �� सेतु: संस्मरण: दृश्य–संवाद–पात्र

Setu �� सेतु: संस्मरण: दृश्य–संवाद–पात्र: शशि पाधा - शशि पाधा मेरे मध्यवर्गीय माता पिता के घर में प्रत्येक वस्तु अपने स्थान पर करीने से लगी रहती थी। छोटा सा आँगन, गुलाब-गेंदा ...

गुरुवार, 4 जून 2020

बहुत बहुत बधाई सुंदर ग़ज़ल के लिए ।

शशि पाधा

सोमवार, 23 मार्च 2020


अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों----
            शशि पाधा



सैनिक पत्नी होने के नाते मुझे लगभग तीन वर्ष फ़िरोज़पुर छावनी में रहने का अवसर मिला | वहाँ रहते हुए जो अनुभव मेरे मन मस्तिष्क में अमिट चिह्न छोड़ गए हैं उनमें से सब से अनमोल था मेरा बार बार शहीद भगत  सिंह, राजगुरु और सुखदेव की समाधि पर जाकर पुष्पांजलि अर्पित करना | जो भी मित्र, पारिवारिक सदस्य, वरिष्ठ सैनिक परिवार फ़िरोज़पुर आता, हम उन्हें इस समाधि स्थल पर अवश्य ले जाते| पंजाब राज्य में बहने वाली पांच नदियों में से सतलुज नदी के किनारे बसे हुसैनीवाला गाँव में बनी झील के किनारे समाधि बनी हुई है | इस स्थान से भारत-पाक सीमा एक किलोमीटर दूर भी नहीं है | जो भी लोग हुसैनीवाला सीमा पर भारत-पाक की परेड देखने आते हैं , वे इस महत्वपूर्ण स्माधिस्थल पर अवश्य आकर पुष्प आदि चढ़ाते हैं |
मैं  कई बार शाम को वहाँ जाकर उन्हें मौन श्रद्धांजलि देती थी | लेकिन एक दिन का अनुभव मुझे आज तक कंपा देता है | मेरे वृद्ध माता- पिता कुछ दिनों के लिए मेरे पास फिरोजपुर में रहने के लिए आए थे | उन्हें मैं एक दिन शाम के समय इस समाधिस्थल पर ले गई |जैसा कि हर बार होता था, हमारे घर में रहने वाले सहायक भैया ने हमारी गाड़ी में कुछ पुष्पहार और कुछ पुष्प रख दिए थे | मैं अपने माता पिता को लेकर समाधि स्थल पर पहुँची तो उन दोनों ने वे पुष्पहार तीनों शहीदों की प्रस्तर मूर्तियों पर चढ़ाए और हाथ जोड़ कर नमन की मुद्रा में खड़े रहे | पास ही हमारी सेना की छोटी सी पोस्ट है | उसमें धीमा-धीमा संगीत चल रहा था | गाना था – कर चले हम फिदा जानोतन साथियो , अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो | हम सब की आँखें बंद थी और हम उस अलौकिक पल में पूरी तरह डूबे थे | अचानक मैंने महसूस किया कि मेरे पिता की आँखों से अविरल अश्रुधारा बह रही थी और वो गीता के किसी मन्त्र का जाप कर रहे थे |  यह मेरे लिए अभूतपूर्व अनुभव था | मैंने अपने धीर, मितभाषी पिता को कभी रोते हुए नहीं देखा था | ऐसा क्या हुआ होगा कि वो इस समाधिस्थल पर खड़े होकर इतने विचलित हो गए |

 जब थोड़े संयत हुए तो स्वयं ही हमसे बोले, “ लगभग मेरी ही उम्र के थे शहीद  भगत सिंह | मुझे एक बार इनसे मिलने का अवसर भी मिला था | वो बहुत ही सौम्य नौजवान था | देश प्रेम की भावना उसके रोम रोम से प्रकट हो रही थी | आज इन वीरों की समाधि देख कर मैं गर्वित भी हो रहा हूँ और ग्लानि भी हो रही है कि हम देशवासी इन्हें बचा नही सके | 23 वर्ष भी उम्र होती है किसी नौजवान के जाने की ? थोड़ी देर बाद फिर हाथ जोड़ कर वे इस त्रिमूर्ति के सामने सिर झुका के खड़े रहे | और जाते समय बोले – कृतज्ञ हूँ, अभिभूत हूँ | उन्होंने वहाँ चढ़ाए फूलों में से दो फूल उठाए और अपने रूमाल में बांध कर रख लिए |

उस शाम मैं अपने माता -पिता के साथ बहुत देर तक हुसैनी वाला झील पर नौका विहार करते रहे | मेरे पिता स्वतन्त्रता संग्राम की बातें सुनाते रहे और मैं धनी होती रही | जब भी 23 मार्च का दिन आता है , मैं शहीद भगत सिंग सुखदेव और राजगुरु को श्रद्धा सुमन तो अर्पित करती ही हूँ किन्तु पर्वत जैसा हौंसला रखने वाले अपने धीर  पिता के साथ बिताए इन अनमोल पलों को याद करते हुए अंदर तक भीग जाती हूँ |

शशि पाधा

23 March , 2020

बुधवार, 26 फ़रवरी 2020


मानस मंथन एक मार्मिक अभिव्यक्ति : कपिल अनिरुद्ध
शशि पाधा

पुस्तक : मानस मंथन
लेखिका : शशि पाधा
प्रकाशक : मानवी प्रकाशन, जम्मू
मूल्य : दो सौ रुपए
सम्पर्क : shashipadha@gmail.com

धरती माँ की वन्दना, राष्ट्र प्रेम एवं भारतीयता को ले कर बहुत ही उत्कृष्ट रचनायें की गई हैं परन्तु अपनी धरा से प्रेम करने वाला, राष्ट्र गौरव से ओत-प्रोत व्यक्ति यदि अपनी मातृभूमि, अपनी जन्मभूमि से दूर हो प्रवासी कहलाने को विवश हो जाता है तो उस के भीतर का दर्द, माँ भारती से बिछुड़ने की पीड़ा कैसे अभिव्यक्ति पाती है, बहुत कम देखने को मिला है। श्रीमती शशि पाधा जी की कविता प्रवासीइसी भाव को अभिव्यक्त करती है। वे लिखती हैं

मैं प्रवासी हुई सखि
है देस मेरा अति दूर
यहाँ न मिलती पीपल छैया
न बाबुल की गलियाँ
यहाँ न वो चौपाल चोबारे
न चम्पा न कलियाँ

वैसा ही दर्द उनकी कविता स्मृतियाँएवं माँ का आँगनमें भी दिखाई देता है। फिर संवेदनशील होना ही तो कवि हृदय का पहला लक्षण है। बतौर सुमित्रानन्दन पंत

वियोगी होगा पहला कवि,
आह से उपजा होगा गान

१३१ पन्नों के अपने इस काव्य संग्रह को कवयित्री ने भारतीय संस्कृति, साहित्य एवं हिन्दी भाषा की समृद्धि में संलग्न प्रावासी भारतीयोंको समर्पित किया है। पुस्तक का नाम पुस्तक का नाम मानस मंथन प्रतीकात्मक है । पुराणों के अनुसार जब सागर मंथन हुआ था तो मंद्राचल पर्वत की मथनी तथा शेषनाग की रस्सी द्वारा ही देवताओं एवं दानवों ने सागर को मथा था। एक रचनाकार जब अपनी चेतना की मथनी ले अपने अन्तरमन को जिज्ञासा की रस्सियों द्वारा मथता है तो उसे जिन अमूल्य बिम्बों, प्रतीकों, संकेतों इत्यादि की प्राप्ति होती है उसे वह दूसरों को सौंपता जाता है। स्वयं विष पी दूसरों को अमृतपान करवाने वाला रचनाकार ही तो शिव कहलाता है। मानस मंथन भी कवयित्री शशि पाधा जी के अन्तरमन में हुए मंथन से प्राप्त रचनाओं का अमृतपान हमें करवाता है। कवयित्री स्वयं लिखती है – “जीवन के राग-विराग, हर्ष-शोक एवं मानवीय रिश्तों की उहा-पोह ने सदैव मेरे संवेदनशील हृदय में अनगिन प्रश्नों का जाल बुना है। मेरा जिज्ञासु मन इस चराचर जगत में उन प्रश्नों के उत्तर ढूँढता रहता है। जीवन मीमाँसा की इस भावना से प्रेरित हो मानस मंथनका बीज अंकुरित हुआ।

मानस मंथन के कैनवास पर रचनाकार ने शब्दों की तूलिका से जीवन के अनेकानेक रंगों को उभारा है। कहीं वह जीवन को पूर्णता से जीने का मूलमंत्र देती नज़र आती है तो कहीं भ्रूण हत्या पर अपना आक्रोश व्यक्त करती है। कहीं वह प्राकृतिक सौन्दर्य का चित्रण करती है तो किसी अन्य रचना में त्याग एवं बलिदान का रंग बिखेरती दिखाई देती है। इन सभी रंगों में से जो रंग सबसे अधिक उभरा हुआ नज़र आता है वह अपने देश की धरती, देश प्रेम का रंग है।

ललित निबन्ध लोभ और प्रीति में आचार्य रामचन्द्र शुक्ल लिखते हैं

जन्म भूमि का प्रेम, स्वदेश प्रेम यदि वास्तव में अंतःकरण का कोई भाव है तो स्थान के लोभ के अतिरिक्त ऒर कुछ नहीं है। इस लोभ के लक्षणों से शून्य देशप्रेम कोरी बकवाद या फैशन के लिये गढ़ा हुआ शब्द है। यदि किसी को अपने देश से प्रेम होगा तो उसे अपने देश के मनुष्य, पशु-पक्षी, लता, गुल्म, पेड़, पत्ते, वन, पर्वत, नदी, निर्झर सबसे प्रेम होगा। सबको वह चाह भरी दृष्टि से देखेगा। सबको सुध कर के वह विदेश में आँसू बहायेगा।
आचर्य शुक्ल जी का यह कथन कवयित्री शशि पाधा पर पूरा उतरता है। वह तो अपने वतन की गलियाँ, कलियाँ, मोर, चकोर, गंगा-यमुना, फाल्गुन होली यह सब देखने को तड़प उठती है। और फिर देश प्रेम की यह भाव धारा अश्रुधारा का रूप ले लेती है।
उनकी कविता प्रवासी वेदनातथा कैसे भेजूँ पातीको पढ़ कर महाकवि कालिदास के मेघदूत की याद ताज़ा हो जाती है। जिस में यक्ष बादलों को अपना प्रेम दूत बना अपनी प्रियतमा को संदेशा देने को कहता है। कवयित्री उड़ती आई इक बदली से अपने घर का हाल-चाल पूछती है। इस कविता की यह पंक्तियाँ मर्मस्पर्शी हैं।

उड़ते-उड़ते क्या तू बदली
गंगा मैय्या से मिल आई
देव नदी का पावन जल क्या
अपने आँचल में भर लाई
मन्दिर की घंटी की गूँजें
कानों में रस भरती होंगी
चरणामृत की पावन बूंदें
तन मन शीतल करती होंगी

किसी भी कवि अथवा कवयित्री की कविताओं को छायावाद, रहस्यवाद, प्रगतिवाद, प्रतीकवाद इत्यादि वर्गों में वर्गीकृत करना, उसके साथ अन्याय करना है। वास्तव में जब हम अपना आलोचना धर्म ठीक ढंग से नहीं निभा पाते हैं तो हम मात्र उन्हें विभिन्न वादों-प्रतिवादों में वर्गीकृत कर के ही अपनी विद्धुता का परिचय दे देना चाहते हैं। यह सत्य है कि शशि पाधा जी की कुछ कविताओं को पढ़ बरबस महादेवी वर्मा जी की याद ताज़ा हो जाती है परन्तु कवयित्री की प्रत्येक अनुभूति उसकी निजि है। उसने अपने लिखे प्रत्येक शब्द को स्वयं अनुभूत किया है। मानस मंथन का अक्षर-अक्षर उस ने जिया है। यही उन की सबसे बड़ी विशेषता है।
उन की बहुत सी कवितायें उस अज्ञात प्रेमी के लिये हैं जो कभी कवयित्री के मन-वीणा क तार छेड़ उन्हें चैतन्य कर देता है तो कभी अपने स्नेहिल स्पर्श से उन्हें रोमांचित कर देता है। उन की कवितायें अदृष्य, जिज्ञासा एवं पथिक अपने उसी अज्ञात प्रेमी को समर्पित हैं।

अपने समय के बहुत से रचनाकारों, चिन्तकों एवं सन्त जनों ने प्रेम क्या है हमें बतलाया है। अपनी कविता प्रेममें कवयित्री भी प्रेम को परिभाषित करती हुई कहती है

-नयन में जले दीप सा
अक्षर में पले गीत सा
चातकी की प्रीत सा
श्वास में संगीत सा
सजे जो वही प्रेम है।

ऊपरी तौर पर पढ़ने वाले किसी पाठक को यह भी भ्रम हो सकता है कि शशि जी अपने निजि सुखों एवं दुखों को शब्दबद्ध कर रही हैं। परन्तु ऐसा कहीं नहीं है। वह तो सबके सुख में अपना सुख देखती है। सबक दुख ही उसका दुख है। वह तो वसुन्धरा को रक्तरंजित होते देख अनायास ही कह उठती है

हरित धरा की ओढ़नी
रक्त रंजित मत करो
खेलना है रंग से तो
प्रेम का ही रंग भरो

कवयित्री शशि पाधा मात्र प्रेम निवेदन करती ही नज़र नहीं आती। वह नारी को उसका खोया गौरव दिलाने को भी कटिबद्ध नज़र आती है। उसक लिए नारी अबला न हो कर सबला है, देव पूजित है, वत्सला है, शक्ति रूपा है। दूसरी ओर नारी स्वतन्त्रता के नाम पर मर्यादा भंग करने के विरुद्ध भी उसका स्वर सुनाई देता है। सांकेतिक ढंग से अपनी कवित अग्निरेखामें मर्यादा की रेखा लाँघने वाली नारी से वह पूछती है

किस दृढ़ता से लाँघी तूने।
संस्कारों की अग्नि रेखा।
देहरी पर कुछ ठिठकी होगी।
छूटा क्या, क्या मुड़ के देखा।

अजन्मा शैशवकविता में वह हमारे सामाजिक कलंक भ्रूण हत्याकी ओर हमारा ध्यान खींचती हैं। अजन्मा शिशु ही अपनी हत्या के लिये माँ से प्रश्न कर हमारी चेतना को झंझोड़ता है।

कवयित्री ने छोटे-छोटे बिम्बों, प्रतीकों एवं संकेतों के माध्यम से अपनी बात कही है। कहीं वह बादलों का सांकेतिक प्रयोग करती नज़र आती है तो कहीं अन्य कविता तापमें वह नारी को सुकोमला एवं निर्बला समझने वालों पर सांकेतिक ढंग से प्रहार करती है। जब वह अपने अतीत की स्मृतियों में खोई हुई होती है, जब वह अपने प्रेममय, गौरवमय अतीत को याद करती है तो दुःखों और निराशाओं से ही घिर नहीं जाती, बल्कि उसके भीतर का दार्शनिक उसे अतीत के प्रेम एवं सौहार्द से वर्तमान के क्षणों को प्रेममय एवं आनन्दमय बनाने का संदेश देता है। वह तो अपने अश्रुओं को भी यह कह कर उदात्त बना देती है

नील गगन भी कभी-कभी।
किरणों की लौ खो देता है।
आहत होगा हृदय तभी तो
बरस-बरस यूँ रो लेता है।

मैं भी रो लूँ आज क्योंकि
कुछ तो है अधिकार मुझे।

हमारे प्रदेश के प्रख्यात साहित्यकार एवं चिंतक डॉ. ओ.पी. शर्मा सारथीजी लिखते हैं – “काव्य कला होते हुए प्राण है और प्राण होते हुए कला है। और सबसे बड़ी बात कि जिस समाज में काव्य कला को पूर्ण महत्व दिया जाता है वहाँ पर लय-ताल और संगीत का साम्राज्य रहता है। काय का सारा ढांचा लय-ताल पर आधारित है। यह कभी भी संभव नहीं है और यह संभावना भी नहीं की जा सकती कि व्यक्ति संगीत के तीन गुणों लय-ताल तथा स्वर को समझे बिना काव्यकार हो जाये। यदि उसे काव्यकार होना है तो लयकार और स्वरकार होना ही होगा।
श्रीमती शशि पाधा जी कविताओं में काव्यत्मकता एवं लयात्मकता का उचित तालमेल नज़र आता है। वह तो शब्दलहरियों के साथ स्वरलहरियों को मिलाने की बात करती हुई लिखती हैं

आओ प्यार का साज़ बजा लें।
सात-सुरों की लहरी गूँजे
तार से तार मिला लें।

देश से हज़ारों मील दूर बसने वाली इस कवयित्री के प्रत्येक शब्द में भारत की मिट्टी, संस्कृति एवं संस्कारों की सुगन्ध आती है। हमारे डुग्गर प्रदेश में जन्मी इस कवयित्री की प्रेरणा इन के पति मेजर जनरल केशव पाधा हैं, जो हमारे गौरव हैं। मेरी कामना है कि हम एक सेनानई की प्ररेणाशक्ति से राष्ट्रप्रेम की प्रेरणा ले यदि माँ भारती की सेवा में जुट जायें तभी इस प्रेममयी कवयित्री की कविताओं को पढ़ने और सराहने का हमारा ध्येय पूर्ण होगा।


बुधवार, 19 फ़रवरी 2020


   
   



सुधियों के पन्नों से   ----  माश्की काका

                      शशि पाधा 

मन के किसी कोने में रखी पिटारी में कई छोटी छोटी गुथलियाँ सम्भाल के रखी हैं| हर गुथली में उन दिनों की मधुर स्मृतियाँ हैं जिन्हें बाँटने में संकोच भी होता है और कोई सुनने वाला भी नहीं मिलता| किन्तु मैं उन्हें कभी कभार अपने एकांत पलों में खोल लेती हूँ, उनसे बतियाती हूँ, उनसे खेलती हूँ और फिर बड़ी रीझ से उन्हें फिर से उनकी गुथली में बाँध के रख देती हूँ| यह मेरे बचपन की धरोहर है जिससे मुझे अपने होने का अहसास हो जाता है| मैं हूँ –यह मैं जानती हूँ पर जो मैं बचपन में थी मैं उसे भी खोना नहीं चाहती| इसीलिए वो पिटारी मेरी सब से प्रिय निधि है|

तब मैं छोटी थी ---बहुत ही छोटी| उन दिनों घर गली मोहल्लों में होते थे और हर बड़ी गली किसी बड़ी सड़क से जुड़ी होती थी| हमारी गली का नाम था –पंजतीर्थी| जम्मू शहर के बिलकुल उत्तर में ‘तवी’ नदी बहती है और इसी नदी के ऊँचे किनारे पर बनी चौड़ी सड़क के अंदर थी पंजतीर्थी| महाराजा हरी सिंह का राज महल इस सड़क के एक छोर पर था और दूसरे छोर पर थी ‘मुबारक मंडी’| इसी मंडी में बड़ी शान से खड़े थे पुराने महल जो इस पीढ़ी के पुराने राजाओं के वैभव का प्रतीक था| मंडी के बीचोबीच संगमरमर की सीढ़ियों वाला एक सुन्दर सा बाग़ था| इस बाग़ में कई तरह के फ़व्वारे लगे थे| चारों ओर खुश्बूदार पेड़ भी थे| इन सभी पेड़ों में से मुझे मौलश्री का पेड़ बहुत पसंद था क्यूँकि उसके फूलों की खुश्बू सब से अलग थी| इसकी खुश्बू के आगे मुझे सारे इत्र फीके लगते हैं|
इस मंडी और राजमहल को आस- पास थे दो बाज़ार| एक का नाम था धौन्थली और दूसरा था पक्का डंगा| इन दोनों बाज़ारों की एक विशेषता थी| दोनों पत्थर के बने थे| यानी सड़कें तो तारकोल की थी किन्तु जम्मू के सारे बाज़ारों में पत्थर लगे हुए थे| गाड़ियाँ तो चलती नहीं थी इन बाज़ारों में और उन दिनों न तो स्कूटर थे न धुआँ छोड़ने वाले अन्य वाहन| फिर भी दिन में दो बार इन बाज़ारों के पत्थरों पर पानी का छिड़काव होता था और वो छिड़काव करने वाले थे हमारे प्यारे ‘माश्की काका’|
उनका नाम क्या था, मैं नहीं जानती| थोड़े से भारी शरीर वाले माश्की काका अपनी मश्क में पानी भर कर बाज़ार के बीचोबीच चलते जाते और दोनों और मश्क के मुँह से पानी फेंकते जाते| अमूमन उस समय हम या तो स्कूल जा रहे होते या आ रहे होते| मुझे याद है काका सब बच्चों के साथ खिलवाड़ भी करते रहते| इधर-उधर पानी छिड़कते-छिड़कते वो मश्क को इतनी जोर से गोल गोल घुमाते की बच्चों पर छींटे पड़ते| सारे बच्चे खिलखिला कर हँस देते और उनके पीछे पीछे चलते हुए यही कहते, “ काका! पानी फेंको न और, अभी मज़ा नहीं आया|”
मुझे याद है कभी-कभी काका खड़े हो जाते बीच बाज़ार और हम बच्चों से कहते, “ देखो, पानी बहुत मूल्यवान है, इसे व्यर्थ में नहीं गंवाना चाहिए| नहीं तो बादल, नदिया और समन्दर सब हमसे रूठ जाएँगे और फिर सूख जाएँगे|”
हमें उनकी बातों की समझ तो आती नहीं थी| भला बादल या नदिया कैसे सूख सकते हैं? और समन्दर तो हमने देखा ही नहीं था तो उसके विषय में हम क्या निर्णय ले सकते थे| हाँ, उनकी बातों से एक बात झलकती थी कि उनको पानी से बहुत लगाव था| शायद वे शहर के उत्तरी किनारे में बहती ‘तवी’ नदी का पानी अपनी मश्क में भर कर लाते थे| और उस नदी तक पहुँचने के लिए नीचे ढल कर जाना पड़ता था| या वे हम सब को जल संकट के विषय से अवगत कराना चाहते थे|
जब मैं बहुत छोटी थी तो मश्क का आकार और मुँह देख कर थोड़ा डर सी जाती थी| एक बार भिश्ती काका से पूछ ही लिया था मैंने, “ काका आपने किस चीज़ का थैला बनाया है? (मुझे उनकी मश्क थैले जैसी ही लगती थी)
हँसते हुए काका ने बताया था कि जब कोई बकरी बूढ़ी होकर मर जाती है तो उसकी खाल से हम यह थैला बना लेते हैं| फिर इसमें पानी भर कर बाज़ार के पत्थरों पर छिड़काव करते हैं| उन दिनों यह बातें समझ नहीं आती थी| पर अब लगता है कि पत्थरों पर पड़ी धूल-मिट्टी न उड़े, इसी लिए छिडकाव होता होगा| राज महल से मंडी तक आने वाली बडी सड़क पर तो दिन में तीन- चार बार काका इधर से उधर आते-जाते अपनी मश्क से पानी छिड़कते रहते|
 काका मुस्लिम थे, यह मेरे पिता ने मुझे बताया था| बहुत बाद में मुझे पता चला था की उनकी कोई अपनी सन्तान नहीं थी| वो  हम सब बच्चों के साथ ही खिलवाड़ करके अपना जी बहला लेते थे| कभी- कभी वो हम बच्चों में संतरी रंग की गोलियाँ (टॉफियाँ) बाँटते थे| शायद तब उनकी ईद होती थी| हाँ, एक बात और याद आती है कि बाज़ार के कृतज्ञ दुकानदार उन्हें कुछ पैसे देते थे जिसे आज के समय में ‘टिप’ कहा जा सकता है|
 उनका नाम मुझे याद नहीं| वो मेरा नाम कैसे जानते थे, मुझे पता नहीं | पर जब भी वो मुझे देखते तो मुस्कुराते हुए कहते, “ गुड्डी!  तुसाँ दूर उड्ड जाना, फेर असाँ नेई मिलना”| ( गुड़िया! तूने बहुत  दूर उड़ जाना और फिर हमने नहीं मिलना) शायद उन्हें पता था की मेरे माता पिता शहर से दूर एक नया घर बनवा रहे थे और वो हम से बिछुड़ने का दर्द इसी तरह ब्यान करते थे|
हम जम्मू का पुराना शहर छोड़ कर नई जगह ‘गाँधीनगर’ आकर बस गए| इस बीच वो बाज़ार भी तारकोल के बन गए| अब सड़कों पर पानी का छिड़काव शायद मयुन्स्पैलिटी की गाड़ियाँ करने लगीं| या इसकी आवश्यकता ही नहीं होती होगी| समय जो इतना बदल गया था| कुछ चीज़ों का कोई महत्व नहीं रह गया था|
मेरे बड़े होते-होते माश्की काका कहाँ खो गए, मुझे पता ही नहीं चला| लेकिन मेरी सुधियों की किसी पिटारी में वो सदा रहे| कभी-कभी मुझे लगता है कि मेरा और उनका सम्बन्ध भी रविन्द्र नाथ टैगोर की कहानी ‘काबुली वाला’ की ‘मिनी’ और ‘काबुली वाला’ की तरह था| वे ठीक ही तो कहते थे ---गुड्डी तुसाँ उड्ड जाना------
मैं तो हूँ, किन्तु मेरे माश्की काका समय के पंख लगा कर कहीं उड़ गए| अब कभी कभी नभ में उड़ते बादलों में उनको देख लेती हूँ | वो वहीं होंगे, अपनी मश्क के साथ, धरती पर जल का छिड़काव करते हुए-------

·        मैंने इस रचना में ‘भिश्त’ के स्थान पर ‘मश्क’ शब्द का प्रयोग किया है| जम्मू में हम सब लोक भाषा में ‘भिश्त’ को ‘मश्क’ ही कहते थे और भिश्ती को कहते थे ‘माश्की’|








 


शनिवार, 15 फ़रवरी 2020



" दस्तक टाइम्स ' की सम्पादक सुमन सिंह द्वारा लिया गया साक्षात्कार |



शशि पाधा जी के लिए लेखन भावों-अनुभावों से जूझना है। आप मूलत: कवयित्री हैं। हालाँकि गद्य-पद्य दोनों में ही समभाव सृजनरत हैं लेकिन कविता मन-प्राण में समाई रहती है। आप की रचनाओं का मूल स्वर प्रेम, सम्वेदना और देशप्रेम का है। मूलत: जम्मू की निवासी शशि जी की अब तक तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। उनके हिन्दी काव्य संग्रह अनन्त की ओरको हिन्दीतर भाषी पुरस्कार मिल चुका है। अपने परिवार के साथ लम्बे समय से अमेरिका में रहते हुए भी आप हिन्दी भाषा व साहित्य से अगाध नेह रखती हैं। शशि जी नार्थ केरोलाईना विश्वविद्यालय में हिन्दी अध्यापन भी कर चुकी हैं। इस आत्मीय बातचीत में उनके व्यक्तित्व-कृतित्व के कई पहलू उजागर हुए हैं। विश्वास है कि दस्तक की साहित्य-संपादक सुमन सिंहके साथ शशि पाधा जी की यह बातचीत उनके सुधी पाठकों और भविष्य के शोधार्थियों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी।

शशि जी, आपका बचपन पहाड़ों की गोद में बीता, प्रकृति अनन्य सहचरी रही आपकी कविताओं में वह नैसर्गिक सौन्दर्य और साहचर्य दिखता है आपकी स्मृतियों में बाल्यावस्था के वे दिन किस रूप में और कितने सुरक्षित हैं?



मेरा जन्म पर्वतों की गोद में बसे मन्दिरों के शहर जम्मू में हुआ था इस नगर के उत्तर में माँ वैष्णो देवी की पहाड़ी है। इस पहाड़ी के दर्शन हम प्रतिदिन सुबह उठते ही करते थे। जम्मू से कुछ ही मील दूर आरम्भ हो जाता है पहाड़ियों का नैसर्गिक सौन्दर्य हमारा ग्रीष्मकालीन अवकाश भी इन्ही पहाड़ियों में बसे किसी गाँव में बीतता था, जहाँ धुन्ध आकर हमें छिपा लेती थी, शीतल झरने गुनगुनाते थे और चीड़-देवदार के वृक्ष हमारे सहचर हो जाते थे। यही देखा और यही मन में बस गया। शायद वहीं से काव्य का बीज मन में अंकुरित हो गया। माता-पिता दोनों ही शिक्षक थे तथा साहित्य एवं संगीत में विशेष रुचि रखते थे। घर में सुबह संस्कृत के पावन श्लोक तथा शाम को आरती वन्दन के मधुर स्वर गूंजते थे। मुझे याद है, नगर में कभी भी कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता तो हम सपरिवार उसे देखने जाते थे। पिता और माता आल इण्डिया रेडियो’, जम्मू के कई कार्यक्रमों में अपने विचार देते थे और भाई जम्मू रेडियो के सुप्रसिद्ध गायक थे। अत: मैं भी इस जम्मू रेडियो से बचपन से ही जुड़ गई। घर में भी हर महीने संगीत सभा अथवा काव्य संध्या का आयोजन होता था और हम हर आयु में उसमें भाग लेते थे। यह सब अब विशेष लगता है क्योंकि जीवन इतना तेजी से भाग रहा है। उन दिनों तो यही हमारी दिनचर्या थी। पुस्तकें, पत्रिकाएँ आसानी से उपलब्ध थीं तो पढ़ने का शौक भी बचपन से ही हो गया। स्कूल में भी हर सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लिया और कई पुरस्कार भी पाए। अब आँखें बंद करके जब भी अपने अतीत में लौटती हूँ तो लगता है कितने सुखद दिन थे वो!

आपने लिखना कब शुरू किया?

शायद बचपन से ही। त्योहारों में खेल-खेल में गाने बनाकर सखियों संग कार्यक्रम प्रस्तुत करना मुझे अभी तक याद है। लेकिन पहली रचना एक कविता थी जो आठवीं कक्षा में रची थी, बस कच्ची-पक्की, फिर कॉलेज में पढ़ते हुए रेडियो के कार्यक्रम के लिए कहानियाँ भी लिखीं। वहीं से सिलसिला शुरू हुआ। सैनिक जीवन में कार्यक्रमों के लिए हास्य एकांकी या कव्वाली लिख दी। यह सब शौक तो थे लेकिन गम्भीर लेखन बहुत बाद में ही हुआ, यानी उम्र के चौथे दशक तक आते-आते।

आपकी पहली प्रकाशित रचना कौन सी थी, जिसने निरन्तर सृजन को प्रेरित किया?

पहली प्रकाशित रचना तो कॉलेज की वार्षिक पत्रिका में लिखी एक कहानी थी, लेकिन सृजन को गति देने वाली पहली रचना मुझे कभी नहीं भूल सकती। कारगिल युद्ध अपने पूरे संहारिक रूप में ताण्डव कर रहा था। मन बहुत क्षुब्ध भी रहता था और सैनिकों के शौर्य और बलिदान को देखकर गर्व भी होता था। उन्हीं दिनों एक रचना लिखी थी जो एक प्रसिद्ध दैनिक समाचार पत्र पंजाब केसरीके मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित हुई थी। शीर्षक था हम लौटें कल या न लौटें। इस रचना पर बहुत से पत्र मिले, प्रतिक्रियाएँ आईं तो बस लेखनी तीव्र गति से दौड़ने लगी। तब से जो चली, अभी तक यात्रा चल रही है।

अमेरिका में जाने का संयोग कैसे बना?

सुमन जी, अमेरिका जाना और जाकर बसना मेरे लिए बहुत कष्टदायी निर्णय था। सैनिक पत्नी होने के नाते वैसे भी यायावरी जीवन ही व्यतीत किया। पति के सेवानिवृत होने पर सोचा था एक स्थान पर रहकर लेखन पर अधिक ध्यान दूँगी। किन्तु दोनों बेटे अमेरिका में पढ़ाई करके वहीं बस गए थे। परिवार के साथ रहने का मोह हमें यहाँ खींच लाया। शुरू में तो बहुत कठिन लगा, वैसे ही जैसे एक पेड़ को समूल उखाड़कर दूसरी जगह रोपने जैसा। अब अच्छा लगता है परिवार भी है और स्नेही मित्र भी। हाँ, देश की याद तो बहुत ही आती है।

प्रवासवास ने आपके रचनात्मक मन को कितना प्रेरित-प्रभावित किया?



आरम्भ के दिनों में तो बहुत कठिनाइयाँ आईं। मैं लिखना चाहती थी, खूब पढ़ना भी चाहती थी किन्तु कहीं कोई हिन्दी की पत्रिका, पुस्तक नहीं मिलती थी। तब बहुत सी ऐसी रचनाएँ लिखी जिनमें देश से, घर से दूर रहने की पीड़ा ही शब्दबद्ध हुई। कुछ भी अपने जैसा नहीं लगता था, न प्रकृति, न लोग और न ही दृश्य इसीलिए मन भावुक अधिक रहता था। फिर उसी वातावरण में सौन्दर्य को ढूँढने का, नये रिश्ते बनाने का प्रयत्न किया। इसी तरह लेखन को विस्तार मिला, नई सोच भी मिली। मैं वर्ष 2002 में यहाँ आई थी। कुछ हिन्दी की पुस्तकें अपने साथ लाई थी। बार-बार उन्हें ही पढ़ती थी फिर धीरे-धीरे अन्तर्जाल पर आने वाली पत्रिकाओं से परिचय हुआ। सबसे पहले मुझे किसी मित्र ने अंतर्जाल पर हिन्दी में प्रकाशित होने वाली पहली पत्रिका अभिव्यक्ति -अनुभूतिका लिंक भेजा। मेरे लिए तो जैसे कुबेर का ख़जाना मिल गया। सच कहूँ तो देश से मीलों दूर अपने कम्प्यूटर पर हिन्दी की इतनी अच्छी पत्रिका को पढ़ पाना मेरे लिए डूबते को तिनके का सहारा जैसी बात थी। साथ ही उन दिनों मैं नॉर्थ कैरोलिनाराज्य के डरहम नगर में रह रही थी। वहाँ पर हिन्दी विकास मण्डल’, ‘अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी समितिआदि संस्थाएँ हिन्दी के विकास-प्रचार में बहुत सक्रिय थीं। यूँ समझिए कि मुझे मित्र भी मिले और मंच भी मिला। यह संयोग ही था कि मेरा यहाँ बसे बहुत से लेखकों से मिलना-जुलना हुआ। यहाँ पर मासिक काव्य गोष्ठियाँ भी होती थीं, भारत से आए वरिष्ठ कवियों के लिए कवि सम्मेलनों का आयोजन भी होता था। इन सब गतिविधियों से मुझे प्रेरणा भी मिली और लेखन को गति भी। अमेरिका में हर राज्य में हिन्दी भाषा के प्रचार के लिए कई सम्मेलन-कार्यक्रम होते रहते हैं। मैं भी इन में भाग लेने का प्रयत्न करती हूँ। जब वातावरण मिला तो स्वाभाविक है कि लेखन भी प्रभावित-विस्तृत हुआ।

आपने भारत में हिन्दी-संस्कृत और फिर अमेरिका में चैपल हिल विश्वविद्यालय, नार्थ केरिलाइनामें हिन्दी भाषा का अध्यापन कार्य किया, इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण अनुभव साझा करना चाहेंगी?

सुमन जी, दोनों अनुभव बहुत ही भिन्न थे। भारत में मैंने जम्मू के महिला कॉलेज में सबसे पहले हिन्दी और संस्कृत भाषा के अध्यापन का कार्य किया था। वहाँ पर अध्यापक के पास नियत पाठ्यक्रम होता है, पुस्तकें होती हैं, लाइब्रेरी होती है। सबसे बड़ी बात यह होती है कि विद्यार्थी को भाषा तो आती है, उन्हें केवल साहित्य की विभिन्न विधाओं से परिचित कराना होता है। अमेरिका में तो क्लास में 50 प्रतिशत विद्यार्थी हिन्दी भाषा के विषय में कुछ नहीं जानते। उन्हें वर्णमाला की सहायता से अक्षर ज्ञान कराना होता है। चित्रों की सहायता से वाक्य विन्यास सिखाना पड़ता है। यहाँ किसी भी विश्वविद्यालय में कोई निर्धारित कोर्स नहीं होता। आपको अपने अनुभव से, विभिन्न प्रशिक्षण सामग्री के माध्यम से भाषा का ज्ञान कराना होता है। केवल भाषा ही नहीं साथ-साथ भारतीय संस्कृति से भी परिचित कराना होता है, तभी तो विद्यार्थी भाषा से जुड़ेंगे, उसे अपनाएंगे। मुझे भारत में पढ़ाने और यहाँ पर पढ़ाने की टेक्निक में धरती आसमान का अन्तर लगा। एक चुनौती थी, जिसे निभाने में मैं जुट गई और बहुत ही आनन्द की अनुभूति हुई। वास्तव में हिन्दी है ही वैज्ञानिक भाषा। जो लिखा, वही पढ़ा-बोलो तो इस प्रकार भाषा का ज्ञान कराने में कोई कठिनाई नहीं हुई। मेरी कक्षा में विभिन्न देशों के विद्यार्थी थे। कई भारतीय मूल के थे, जिनके घर में हिन्दी बोली जाती थी, लेकिन वे पढ़-लिख नहीं सकते थे इसीलिए यहाँ पढ़ने आते थे। कुछ अमेरिकी, जापानी, और ब्रितानी विद्यार्थी भी थे जो भारत की संस्कृति से प्रभावित थे या भारत जाकर कोई व्यवसाय करना चाहते थे। वे बहुत ही मनोयोग से, मेहनत से सीखते थे और परीक्षा में अंक भी बहुत अच्छे लेते थे। इस प्रकार विभिन्न संस्कृतियों से आए विद्यार्थियों को पढ़ाने में बहुत आनन्द आता था। कुछ पारिवारिक कारणों से मुझे यह काम छोड़ना पड़ा नहीं तो मेरे लिए ये स्वर्णिम दिन थे।

सैनिकों के शौर्य और बलिदान से सम्बन्धित आपकी कई रचनाएँ पढ़ने को मिलीं, इन रचनाओं को लिखने के मूल कारण क्या थे?

सुमन जी, मैंने अपने जीवन का अधिकांश भाग सैनिकों के साथ ही बिताया है। विवाह के बाद मैंने वही दुनिया देखी। सैनिक परिवारों का जीवन कुछ अलग-थलग होता है। मैंने उन्हें हर रूप, हर किरदार में देखा है। शौर्य, देश भक्ति, कर्तव्य परायणता, सद्भाव, मानव सेवा, यह सभी गुण उनमें सदैव विद्यमान रहते हैं। वो बागबानी भी उतनी ही तन्मयता से करते हैं जितनी लग्न से सीमा रक्षा। कोई सैनिक केवल घातक नहीं होता। राष्ट्र रक्षा उसका धर्म और कर्म होता है और इसके लिए वो शत्रु का संहार करता है। मैंने अपने सैनिक जीवन काल में युद्ध पर जाते हुए योद्धाओं को विदा किया है। शहीदों के परिवारों को सम्भाला भी है और आशंकाओं से जूझती हुई सैनिक पत्नियों के मन में उत्साह और भरोसा भरने का प्रयत्न भी किया है। रचनात्मकता तो स्वभाव में थी ही। जब ऐसी परिस्थितियाँ आईं तो कविता का रुख भी उस ओर ही मुड़ गया। कारगिल युद्ध में और उसके बाद कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों में मैंने बहुत से अपनों को खोया है। मैं उनके शौर्य और पराक्रम से अभिभूत भी हुई हूँ और उन्हें खोने के दु:ख से दुखी भी। मैंने यह भी देखा कि सैनिक तो एक बार युद्धक्षेत्र में वीरगति प्राप्त कर अमर हो जाता है किन्तु उसके परिवार के लिए जीवन युद्ध वहीं से आरम्भ होता है। कई प्रशासनिक सहायताओं के होते हुए भी परिवार का जीवन बदल जाता है। बस यही सोचकर मैंने अपनी लेखनी के द्वारा आम जनता तक सैनिकों की शौर्य गाथाओं के साथ-साथ उनके परिवारों के जीवन के विषय में भी आलेख- संस्मरण लिखने आरम्भ किए। इन्हें पुस्तक बद्ध रूप में प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशित किया। इस संग्रह का नाम है शौर्य गाथाएँ। इच्छा यही है कि आज की युवा पीढ़ी इन वीरों की पराक्रम गाथाओं को पढ़ें और उनसे प्रेरणा पाएँ।

आपकी रचनाओं में प्रेम की सुकोमल अभिव्यक्ति प्रधान है, इसका कोई विशेष कारण?

प्रेम में मेरी गहरी आस्था है। मुझे प्रकृति के क्रियाकलापों में, सूर्य के उदय-अस्त के सुनहरे दृश्य में, साँझ की ढलती चाँदी घुली आभा में, पुष्प के खिलने में, पवन का पत्तियों को छूने में, हर माँ की आँख में, धूप-छाँव की आँख-मिचौली में, प्रेम तत्व ही प्रधान दिखाई देता है। जब साहित्य पढ़ना-समझना आरम्भ किया सूर, मीरा, कबीर, जायसी की रचनाओं में प्रेम तत्व को पाकर अभिभूत हो गईे क्योंकि मैं स्वभाव से भावुक हूँ, अत: इसी प्रेम रस की स्याही में डूबी मेरी लेखनी से काव्य प्रस्फुटित हुआ। फिर सैनिक जीवन में भी संयोग और वियोग के बहुत से अवसर आए। इस प्रकार आरम्भ में जो भी लिखा, प्रेम ही लिखा। जीवन के इस मोड़ पर अब दृष्टी प्रेम से परे अन्य क्षेत्रों पर भी टिकती है। अब तो कविताओं में अन्य विषय भी समाहित हो गए हैं। किन्तु जब भी लिखने बैठती हूँ कविता का पहला अक्षर प्रेम ही लिखा जाता है। मेरी एक रचना भी है – ‘‘मानस के कागज पर प्रीतम दो अक्षर का गीत लिखा। पहला अक्षर नाम तुम्हारा, दूजा तेरी प्रीत लिखा।’’

आपकी रचनाओं में जो छायावादी सौन्दर्य परिलक्षित होता है, वह किस कारण से है? क्या तत्कालीन छायावादी कवियों की रचनाओं का असर उन पर है?

जब बचपन से हिन्दी की रचनाएँ पढ़नी आरम्भ कीं तो महादेवी वर्मा, जयशंकर प्रसाद, सुमित्रा नंदन पन्त, मैथिली शरण गुप्त, रामधारी दिनकर को पढ़ा। उससे पहले स्कूल की पढ़ाई में भी मुझे कबीर की रचनाएँ बहुत अधिक प्रभावित करतीं थी। कबीर के दोहे तो हमारे घर में हर परिस्थिति में एक दीपक के समान मार्गदर्शन करते थे। मुझे याद है कि मैंने जय शंकर प्रसाद की कामायनीको जितनी बार पढ़ा, हर बार उसमें कुछ नया ही ढूँढती रही। महादेवी जी के काव्य संग्रह पढ़कर मन अलौकिक संसार में विचरण करने लग जाता था। मैं उनकी पीड़ा के कारण को समझने का प्रयास करती थी और जो नहीं समझती थी वो अपनी विदूषी माँ से पूछती थी। शायद यही कारण है कि मेरी रचनाओं में छायावाद का प्रभाव आया। मुझे तो स्वयं इस बात का कभी भी पता नहीं चला। मेरे पहले काव्य संग्रह पहली किरणके प्रकाशित होने के बाद पाठकों/समीक्षकों ने मुझे इस बात से परिचित कराया। हाँ, प्रकृति मेरी सहचरी है और वही मेरी लेखनी की नोंक पर बैठी मुझसे लिखवाती है। छायावाद और प्रकृति का विशेष सम्बन्ध है। अत: हो सकता है प्राकृतिक सौंदर्य को देखते-देखते मैं छायावाद की ओर मुड़ गई, किन्तु यह आनायास हुआ। मुझे स्वयं भी इसकी पदचाप सुनाई नहीं दी। सुमनजी, आप जब यह कहती हैं या कोई और पाठक मित्र यह कहता है कि मेरी रचनाओं में महादेवी जी की परछाईं है तो मुझे खुशी और हैरानी दोनों ही होती है। महादेवी जी की कालजयी लेखनी अगर मेरी प्रेरणा का स्रोत है तो यह मेरे लिए गर्व की बात है। हाँ, मैं नतमस्तक होकर यह अवश्य कहना चाहूँगी कि वो सागर हैं तो मैं एक बूँद ही हो सकती हूँ।

आप कविता के साथ ही साथ गीत, नवगीत, दोहा हाइकु भी लिखती हैं, इस लेखन वैविध्य को इतनी कुशलता से कैसे निभा लेती हैं?

सुमन जी, रचनात्मकता तो एक काल्पनिक स्पन्दन है, उद्वेग है जिसे शब्दों में बाँध लिया जाता है। मैं आरम्भ में तो केवल गीत ही लिखती थी किन्तु धीरे-धीरे काव्य की अन्य विधाओं से परिचय हुआ तो इन्हें लिखने में आनन्द आने लगा। दोहे लिखने में मात्राओं का जो अनुशासन होता है वो मुझे चुनौती देता है। इसी प्रकार मैं माहियाभी लिखती हूँ जो एक बहुत ही मधुर छन्दबद्ध रचना होती है। हाइकू लिखना भी कला ही है जिसे अभ्यास से परिष्कृत किया जा सकता है। नवगीत तो गीत ही है। केवल उसके कथ्य में आँचलिकता, लोकतत्व रहता हैे यह सब विधाएँ तो धीरे-धीरे लेखन में आई। इसके साथ ही मैं संस्मरण और आलेख भी लिखती हूँ। क्षणिकाएँ और लघुकथाएँ भी कुछ पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। यह सोचकर नहीं लिखती हूँ कि आज क्या लिखना है। मेरी कल्पना को उस समय जो भाता है उस विधा में लिख लेती हूँ। हाँ, एक बात अवश्य कहना चाहूँगी, बहुत सी रचनाएँ तो अन्य लेखकों की रचनाएँ पढ़कर, उनसे प्रेरित होकर लिखी हैं। नहीं तो कभी नहीं सोचा था कि गद्य में भी लिखूँगी। किन्तु अब लिखती हूँ तो अच्छा लगता है।

आपकी लेखन के अतिरिक्त अन्य रुचियाँ?

पढ़ना और खूब पढ़ना। कुछ भी मिले, उसे पढ़ना। हाँ, सार्थक होना चाहिए। संगीत सुनना भी बहुत पसन्द है।

समकालीन लेखकों में से किससे प्रेरित प्रभावित हैं?

जब बड़ी हो रही थी तो शिवानीकी रचनाओं से बहुत प्रभावित थी। उनके स्त्री पात्रों के चरित्र विश्लेषण ने मुग्ध कर दिया था। अब आप कहें कि कोई एक नाम लूँ तो निर्णय नहीं ले पाऊँगी। अंतर्जाल पर ही कितना साहित्य उपलब्ध है। बहुत लोग बहुत अच्छा लिख रहे हैं। जो अच्छा लगे पढ़ती हूँ और प्रेरित भी होती हूँ। कोई विशेष नाम नहीं ले सकती क्यूँकि विदेश में रहने से पुस्तकें तो कम ही उपलब्ध हैं।

इन दिनों क्या व्यस्तता है?

सुमन आप तो जानती हैं, भारतीय सेना जम्मू-कश्मीर में किस प्रकार आतंकवाद से जूझ रही है। प्रतिदिन हम कितने वीरों को खो रहे हैं, कितने परिवार अनाथ हो रहे हैं। कुछ दिनों के लिए तो जनता उन्हें याद करती है लेकिन उसके बाद उनके परिवार अकेले पड़ जाते हैं अपने युद्ध से जूझने के लिए। मैं प्रयत्न कर रही हूँ कि उन रणबांकुरों की वीर गाथाओं के साथ-साथ उनके परिवार को भी सामने लाऊँ, उनसे मिलूँ, उनके बच्चों के भविष्य के विषय में जानूँ और अन्य लोगों तक उनकी जीवन गाथा पहुँचाऊँ । इसी प्रकार, परिवारों से मिलकर, फोन पर बात करके उनके विषय में लिखूँ। बस यह एक जीवन ध्येय बना लिया है। वैसे तो हम सब विश्व शान्ति की ही कामना करते हैं किन्तु जो हो रहा है उसे तो हम नजरअंदाज़ नहीं कर सकते। बाकी लेखन तो एक अनवरत यात्रा है, कई पड़ाव आएँगे देखिए, भविष्य की गठरी में मेरे लिए क्या-क्या है?