सोमवार, 26 मई 2014

भारतीय सेना के शूरवीर सैनिकों को समर्पित माहिया -------






कैसी आज़ादी है - माहिया
                      शशि पाधा
     *
कैसी आज़ादी है
सरहद से पूछो
कितनी बर्बादी है |
    *
यह नेता क्या जाने
वीर सिपाही का
साहस ना पहचाने |
     *
अर्जुन सा वार करें 
दुशमन टोली का 
सैनिक संहार करें |
     *
दुशमन से जूझ जरा
दृढ़ता सैनिक की
पर्वत से पूछ जरा |
     *
आज़ादी पाई है
कितने वीरों ने
निज जान गंवाई है |
     *
जयघोष सुनाना है
सारा जग सुन ले
अब देश बचाना है |
    *
जब पहने रोता है
बेटा सैनिक का
वर्दी से छोटा है |
     *
सीमा पर ध्यान धरो
जन गण भारत के
सैनिक का मान करो |
      *


माँ धीर ज़रा धरना 
गर हम लौटें ना
नित याद हमें करना |
      *
इक रीत निभानी है
गाथा वीरों की
हर रोज़ सुनानी है |

शशि पाधा


2 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मिलिये नए मंत्रीमंडल से - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग बुलेटिन में इस पोस्ट को साझा करने के लिए आपका आभार | किन्हीं कारणों से यहाँ आ नहीं पाई |

      हटाएं